श्रेष्ठ उत्तराखण्ड (ShresthUttarakhand) | Hindi News

Follow us

Follow us

Our sites:

|  Follow us on

Rohini Vrat 2024: आज है रोहिणी व्रत, मां लक्ष्मी को ऐसे करें प्रसन्न

Rohini Vrat 2024

Rohini Vrat 2024: रोहिणी व्रत को जैन धर्म का सबसे महत्वपूर्ण व्रत माना जाता है। जैसा कि नाम से ही मालूम होता है कि यह व्रत रोहिणी नक्षत्र से संबंधित है। पूरे देश में आज इस व्रत को रखा जाएगा। हिंदू धर्म में भी रोहिणी व्रत का बड़ा महत्व है। रोहिणी व्रत के दिन मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है।

जैन ग्रन्थों के मुताबिक
रोहिणी व्रत को पूरे विधि-विधान के साथ करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। व्रत के दिन सबसे पहले सुबह उठकर स्नान करना चाहिए। स्नान के पानी में गंगाजल जरूर मिलाएं। इसके बाद आचमन कर व्रत का संकल्प लें। आचमन करने के बाद सूर्य को अर्घ्य दें। फिर पूजा स्थल में साफ कपड़ा बिछाकर भगवान वासुपूज्य की मूर्ति और वेदी को स्थापित करें।

अब भगवान वासुपूज्य को धूप, फल, फूल, दूर्वा आदि अर्पित करें। रोहिणी व्रत में सूर्यास्त के बाद भोजन नहीं किया जाता इसलिए शाम की आरती और पूजन के बाद फलाहार कर लें। अगले दिन नियमानुसार पूजा-पाठ करने के बाद व्रत खोलें और अपनी क्षमता के अनुसार गरीबों और जरूरतमंदों को दान दें। इसके अलावा व्रत का उद्यापन भी करें, तभी व्रत पूरा होगा।

हिन्दू धर्म के मुताबिक
सुबह जल्दी उठकर पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान कर स्वच्छ वस्त्र पहनें। पूजा स्थान को साफ कर लें और लाल कपड़ा बिछाकर देवी लक्ष्मी की मूर्ति या चित्र स्थापित करें। इसके बाद दीपक जलाकर मां लक्ष्मी की आरती उतारें और रोली, अक्षत, सुगंधित फूल, फल, मिठाई, पान और सुपारी आदि अर्पित करें। सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए इस व्रत को रखती हैं।

रोहिणी व्रत से मिलते हैं ये शुभ फल
जैन मान्यताओं के अनुसार, रोहिणी व्रत को पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ करने से महिलाओं को अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही परिवार की दरिद्रता कष्ट दूर होते हैं। व्रत से तरक्की के नए रास्ते खुलते हैं और मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस व्रत को कम-से-कम पांच साल तक रखने का विधान है।

घर के ईशान कोण में भूलकर भी न रखें ये चीजें, वरना भंग हो जाएगी सुख-शांति


संबंधित खबरें

वीडियो

Latest Hindi NEWS

SDRF Saved The Lives Of 14 Kanwariyas In Haridwar
SDRF बनी देवदूत, दो दिनों में गंगा में डूब रहे 14 कांवड़ियों को बचाया
chamoli anusuya devi mandir | anusuya devi mandir story |
अनुसूया मंदिर में निसंतान लोगों की कामना होती है पूर्ण, जानिए पूरी कहानी
uttarkashi district planning committee meeting | cm pushkar singh dhami | uttarkashi development |
उत्तरकाशी का 76 करोड़ रुपये से होगा विकास, पिछली बार से 8 प्रतिशत अधिक
CM Dhami Paid Tribute To Martyr Sridev Suman
सीएम धामी ने शहीद श्रीदेव सुमन को दी श्रद्धांजलि, कहा- उनका जीवन सभी के लिए प्रेरणास्रोत
Uttarakhand State Junior And Senior Badminton Championship
22वीं उत्तराखण्ड राज्य जूनियर एवं सीनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप का सीएम ने किया शुभारंभ
teflon flu treatment
बर्तन से फैल रहा खतरनाक फ्लू, 200 से ज्यादा लोग बीमार; ऐसे करें बचाव