श्रेष्ठ उत्तराखण्ड (ShresthUttarakhand) | Hindi News

Follow us

Follow us

Our sites:

|  Follow us on

अयोध्या: श्रीराम मंदिर की प्रमुख विशेषताएं


22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर के भव्य अभिषेक समारोह से पहले श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने मंदिर की प्रमुख विशेषताएं साझा कीं।

मंदिर की वास्तुकला

यह मंदिर पारंपरिक नागर शैली में है और इसकी लंबाई (पूर्व-पश्चिम) 380 फीट, चौड़ाई 250 फीट और ऊंचाई 161 फीट है। नागर वास्तुकला उत्तर भारत में उत्पन्न मंदिर वास्तुकला की एक शैली है। मंदिरों में ऊंचे पिरामिडनुमा टॉवर होते हैं जिन्हें शिखर कहा जाता है जिनके शीर्ष पर एक कलश होता है। मंदिरों के स्तंभों पर जटिल डिजाइन उकेरे गए हैं और दीवारों को मूर्तियों और नक्काशी से सजाया गया है।

मंदिर में 392 खंभे, 44 दरवाजे

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ के अनुसार राम मंदिर तीन मंजिला है, जिसकी प्रत्येक मंजिल 20 फीट ऊंची है। इसमें कुल 392 खंभे और 44 दरवाजे हैं।

मंदिर में पांच मंडप

गर्भगृह मंदिर का सबसे भीतरी गर्भगृह है, जहां देवता स्थापित हैं। मुख्य गर्भगृह में भगवान श्री राम का बचपन का स्वरूप है और पहली मंजिल पर श्री राम दरबार होगा। मंदिर में पांच मंडप (हॉल) हैं, नृत्य मंडप, रंग मंडप, सभा मंडप, प्रार्थना और कीर्तन मंडप।

विकलांगों और बुजुर्गों के लिए विशेष सुविधा

देवी-देवताओं की मूर्तियाँ खंभों और दीवारों पर सुशोभित हैं। मंदिर में प्रवेश पूर्व से है, जिसमें सिंह द्वार के माध्यम से 32 सीढ़ियाँ चढ़नी होती हैं, साथ ही विकलांगों और बुजुर्गों की सुविधा के लिए रैंप और लिफ्ट की व्यवस्था भी है।

परिसर के चारों कोनों पर चार मंदिर

मंदिर के चारों ओर 732 मीटर लंबी और 14 फीट चौड़ी पार्कोटा (आयताकार परिसर की दीवार) है। परिसर के चारों कोनों पर चार मंदिर हैं – सूर्य देव, देवी भगवती, गणेश भगवान और भगवान शिव को समर्पित। उत्तरी भुजा में माँ अन्नपूर्णा का मंदिर है और दक्षिणी भुजा में हनुमान जी का मंदिर है।

ऐतिहासिक कुआँ

मंदिर के पास एक ऐतिहासिक कुआँ (सीता कूप) है, जो प्राचीन काल का है। श्री राम जन्मभूमि मंदिर परिसर में, महर्षि वाल्मिकी, महर्षि वशिष्ठ, महर्षि विश्वामित्र, महर्षि अगस्त्य, निषाद राज, माता शबरी और देवी अहिल्या की पूज्य पत्नी को समर्पित प्रस्तावित मंदिर हैं।

परिसर के दक्षिण-पश्चिमी भाग में कुबेर टीला जटायु की स्थापना के साथ-साथ भगवान शिव के प्राचीन मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया है। मंदिर में कहीं भी लोहे का उपयोग नहीं किया गया है और जमीन की नमी से सुरक्षा के लिए ग्रेनाइट का उपयोग करके 21 फुट ऊंचे चबूतरे का निर्माण किया गया है।

आधुनिक सुविधांए

मंदिर की नींव का निर्माण रोलर-कॉम्पैक्ट कंक्रीट (आरसीसी) की 14 मीटर मोटी परत से किया गया है, जो इसे कृत्रिम चट्टान का रूप देता है। मंदिर परिसर में एक सीवेज उपचार संयंत्र, जल उपचार संयंत्र, अग्नि सुरक्षा के लिए जल आपूर्ति और एक स्वतंत्र बिजली स्टेशन है।

चिकित्सा सुविधाएं

इसके अलावा, 25 हजार लोगों की क्षमता वाला एक तीर्थयात्री सुविधा केंद्र का निर्माण किया जा रहा है, जो तीर्थयात्रियों को चिकित्सा सुविधाएं और लॉकर सुविधा प्रदान करेगा। परिसर में स्नान क्षेत्र, वॉशरूम, वॉशबेसिन, खुले नल आदि के साथ एक अलग ब्लॉक भी होगा।अ

मंदिर का निर्माण पूरी तरह से भारत की पारंपरिक और स्वदेशी तकनीक का उपयोग करके किया जा रहा है। इसका निर्माण पर्यावरण-जल संरक्षण पर विशेष जोर देते हुए किया जा रहा है और 70 एकड़ क्षेत्र के 70% हिस्से को हरा-भरा रखा गया है। 


संबंधित खबरें

वीडियो

Latest Hindi NEWS

Anant Radhika Wedding
Anant Radhika Wedding: अनंत-राधिका को आशीर्वाद देने पहुंचे पीएम मोदी
IND vs ZIM 4th T20
IND vs ZIM 4th T20: यशस्वी- गिल की धमाकेदार पारी, जिम्बाब्वे को रौंद भारत ने जीती सीरीज
uttarakhand by election 2024 | mangalore by election | badrinath by election | cm dhami | congress |
मतदाताओं का डबल इंजन की सरकार को करारा जवाब : मनीष राणा
Haldwani
Haldwani: दो दिन पहले नाले में बहे युवक का नहीं लगा सुराग, तलाश जारी
encroachment removed in rudrapur | bulldozer run on illegal houses | cm dhami | high court order |
हाईकोर्ट के आदेश पर अवैध मकानों पर चला बुलडोजर, कई वर्षों से रह रहे थे लोग
by election result 2024 | tmc | congress | bjp |
By Election Result : JDU RJD को तगड़ा झटका, बंगाल में टीएससी की शानदार जीत